Agri Junction |Buy Seeds Online| Buy Plants| Organic Pesticides In India| Agricultural Tools

कैसे करें मसूर की खेती और रोग से बचने के उपाय। आईये जानते है -

पोषक तत्व 03 Nov,2022 01:31 PM 120

मसूर रबी मौसम की सबसे महत्वपूर्ण प्रोटीन से भरपूर दलहनी फसलों में से एक है। इसे ज्यादातर दाल के रूप में खाया जाता है। मसूर की फसल चना तथा मटर की अपेक्षा कम तापक्रम, सूखा एवं नमी के प्रति अधिक सहनशील होती है। उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश व बिहार में मुख्य रूप से एवं भारत के सभी राज्य में की जाती है। भारत दुनिया में दाल का सर्वाधिक उत्पादन करने वाला देश है।

बुवाई का समय

भारत में अंसिचित अवस्था में खरीफ की फसल की कटाई के बाद नमी उपलब्ध रहने पर अक्टूबर के प्रथम सप्ताह से नबम्बर के प्रथम सप्ताह तक मसूर की बोनी की जाती है। और सिंचित अवस्था में बोनी मघ्य अक्टूबर से मध्य नबम्बर तक की जा सकती है। मसूर की फसल लगभग 110 से 140 दिन मे तैयार हो जाती है।

दुरी

बीज को 22 सेंटीमीटर की दूरी के साथ लाइनों में बोना चाहिए। देर से बुवाई की शर्तों के तहत, पंक्ति-रिक्ति को 20 सेमी तक कम किया जाना चाहिए।

बीज की गहराई

बुवाई की गहराई 3-4 सेमी की गहराई पर बोयें।

बुवाई का तरीका

बुवाई की विधि के लिए पोरा विधि या बीज सह उर्वरक ड्रिल का उपयोग करें। बीज को मैन्युअल रूप से प्रसारित करके भी बोया जा सकता है।

बीज की मात्रा

  • छोटे दानों वाली किस्म 40 से 45 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर मात्रा में।
  • बड़े दानों वाली किस्म 55 से 60 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर मात्रा में।
  • पानी भराव वाले क्षेत्र में 60 से 80 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर मात्रा में।

बीज का उपचार

बुवाई से पहले बीज को कैप्टान या थिरम @ 3 ग्राम / किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित करना चाहिए।

भूमि का चयन

मसूर को सभी प्रकार की मिट्टी पर उगाया जा सकता है। लवणीय, क्षारीय या जलयुक्त मिट्टी से बचना चाहिए। मिट्टी को भुरभुरा और खरपतवार रहित होना चाहिए ताकि बीज को समान गहराई पर रखा जा सके।

खेत की तैयारी

मसूर की खेती के लिए हल्की मिट्टी में सीड बैड तैयार करने के लिए कम जुताई की आवश्यकता होती है। भारी मिट्टी में एक गहरी जोताई के बाद 3-4 हैरो से क्रॉस जुताई करनी चाहिए। ज़मीन को समतल करने के लिए 2-3 जुताई पर्याप्त होती है। पानी के उचित वितरण के लिए ज़मीन समतल होनी चाहिए। बीजों की बुवाई के समय खेत में उचित नमी मौजूद होनी चाहिए।

खाद एवं रासायनिक उर्वरक

मसूर के अच्छे उत्पादन के लिए कार्बनिक खाद या कम्पोस्ट खाद का प्रयोग करें। रासायनिक उर्वरक में नाइट्रोजन 5 किलो, फास्फोरस 8 किलो प्रति एकड़ में बुवाई के समय डालनी चाहिए। बुवाई से पहले बीजों को राइज़ोबियम से उपचार कर लेना चाहिए। यदि बुवाई से पहले बीजों का राइज़ोबियम से उपचार नहीं किया है तो फास्फोरस की मात्रा दोगुनी कर देनी चाहिए।

कीट एवं रोग रोकथाम

  • फलीछेदक - मसूर की खेती में इस कीट का प्रकोप होने पर प्रोफेनोफॉस 50 EC, 2 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी या इमामेक्टिंन बेन्जोएट 5 एस जी 0.2 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिडकाव करें।
  • माहू (एफिड) - इस कीट से बचाव के लिए प्रकोप आरम्भ होते ही डायमिथोएट 30 EC, 1.7 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी या इमिडाक्लोरोप्रिड 17.8 एस एल की 0.2 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव करे।
  • रतुआ (रस्ट) - इस कीट से बचाव के लिए फसल पर मैंकोजेब 75 डब्लू पी कवकनाशी का 0.2 प्रतिशत (2 ग्राम प्रति लीटर पानी) घोल बनाकर बुवाई के 50 दिन बाद छिडकाव करें तथा दूसरा 10 से 12 दिन के बाद जरूरत के हिसाब से करें।
  • उकठा (विल्ट) - बुवाई से पूर्व बीज को थिरम व कार्बेन्डाजिम (2:1) 3 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित करके ही बोनी करें, उकठा निरोधक एवं सहनशील किस्मों जैसे पन्त मसूर- 5, आई पी एल- 316, आर वी एल- 31, शेखर मसूर- 2, शेखर मसूर- 3 इत्यादि उगायें।

खरपतवार नियंत्रण

मसूर में पाए जाने वाले मुख्य खरपतवारों में चेनोपोडियम एल्बम (बथुआ), विकिया सैटिवा (अकरी), लैथिरस एसपीपी आदि होते हैं। इन्हें 30 और 60 दिनों के अंतराल पर 2 कुदाल से नियंत्रित किया जा सकता है। उचित फसलों की पैदावार और उपज के लिए 45-60 दिनों की खरपतवार मुक्त अवधि बनाए रखनी चाहिए। बुवाई के 50 दिनों के बाद एक कुदाल के साथ स्टॉम्प 30EC @ 550ml / एकड़ का पूर्व-उद्भव अनुप्रयोग, प्रभावी खरपतवार नियंत्रण में मदद करता है।

सिंचाई

मसूर मुख्य रूप से वर्षा आधारित फसल के रूप में उगाई जाती है। जलवायु परिस्थितियों के आधार पर सिंचित स्थितियों में 2-3 सिंचाई की आवश्यकता होती है। एक सिंचाई बुवाई के 4 सप्ताह बाद और दूसरी फूल अवस्था में प्रदान की जानी चाहिए। फली निर्माण और फूल दीक्षा पानी की आवश्यकता के महत्वपूर्ण चरण हैं।

कटाई

फसल की कटाई उचित समय पर की जानी चाहिए जब पौधे सूख जाएं और फली परिपक्व हो जाए। फली को अधिक समय पकने से बचाना चाहिए क्योंकि बिखरने से उपज खो सकती है। फसल को डंडे से पीटकर भी निकाला जाता है।

भण्डारण

थ्रेशिंग के बाद, बीज को साफ किया जाता है, और धूप में सुखाया जाता है। भंडारण के समय नमी की मात्रा 12% होनी चाहिए। किस्म के अनुसार पानी वाले क्षेत्रों में 8-10 क्विन्टल व सिंचाई करने पर 15-16 क्विन्टल प्रति हेक्टेयर मसूर की उपज प्राप्त होती है।